xpornplease.com pornjk.com porncuze.com porn800.me porn600.me

हजारों साल पुरानी है सारंगधर बालाजी की 12 फीट काले विशेष पत्थल की मूर्ति

नागपुर से लगभग 350 किलोमीटर दूर बुलढाणा जिले के मेहकर तालुका में सारंगधर बालाजी के साथ ब्रह्मा और महेश भी विराजते हैं. एक साथ तीन देवताओं के दर्शन ही इस मंदिर को विशेष और अद्भुत बना देते हैं।

सरांगधर बालाजी प्रभू

इस मंदिर की सबसे बड़ी विशेषता है 12 फीट की बालाजी की प्रतिमा, जो हजारों साल पुरानी है. इस मंदिर में आने वाले भक्तों को यहां आकर एक अलौकिक अनुभूति होती है, उनकी माने तो यहां आकर मन को शांति मिलती है और आत्मा को तृप्ति. साथ ही त्रिदेव से मांगी हर मन्नत पूरी होने का विश्वास भी भक्तों यहां खींच लाता है।

सारंगधर बालाजी प्रभू

सावन में भगवान शिव की पूजा तो होती ही है, लेकिन मेहकर के इस मंदिर में बालाजी और ब्रह्मा जी की भी विशेष पूजा अर्चना की जाती है. सावन के पूरे महीने में तीनों देवताओं का अभिषेक किया जाता है, साथ ही इनकी भव्य आरती भी उतारी जाती है. सबसे खास बात ये है कि यहां भगवान विष्णु के साथ माता लक्ष्मी भी विराजमान हैं, जो भगवान विष्णु के चरणों पर नजरें गड़ाए हुए हैं. कहते हैं यहां दर्शन करने वालों पर मां लक्ष्मी की कृपा सदैव बनी रहती है।

सरांगधर बालाजी प्रभू

वैसे तो बालाजी यानि विष्णु हर जगह अकेले ही विराजते हैं, लेकिन ये एक ऐसा अकेला मंदिर है, जहां महालक्ष्मी संग भगवान विष्णु विराजे हैं और जहां मां लक्ष्मी अपनी दृष्टि भगवान के पैरों पर गड़ाए हुए हैं. यानी इसका मतलब साफ है कि जो भी भगवान की शरण में आता है उसपर लक्ष्मी प्रसन्न हो जाती हैं।

सारंगधर बालाजी प्रभू

सावन के महीने में दशावतार वाले बालाजी के इस मंदिर में सुबह से ही भगवान का अभिषेक शुरू हो जाता है और भक्त घंटों यहां आकर विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करते हैं. इस पावन महीने में रोज बालाजी को नई पोशाक पहनाकर उनका श्रृंगार किया जाता है।

सरांगधर बालाजी प्रभू

सरांगधर बालाजी के पोशाक रोज अलग अलग रंग में रहता है। जब भी त्रिदेव के दर्शन की इच्छा हो तो इस मंदिर में एक बार जरूर पधारे ।

सारंगधर बालाजी प्रभू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

https://www.amazon.com/dp/B086W65SLM