xpornplease.com pornjk.com porncuze.com porn800.me porn600.me

सकारात्मक पक्ष को समझ लीजिए, संबद्ध नियमों का पालन किया तो दुनिया में विद्यमान यह महाभयावह त्रासदी दूर होगी- परमात्मराज महाराज

           हमेशा खुद को सुख,शान्ति  एवं समाधान की प्राप्ति होती रहे,ऐसी प्रायः  हर एक के मन में इच्छा  रहती है । लेकिन उस इच्छा के मुताबिक ही सब कुछ होता रहता है, ऐसी बात नहीं । कभी कभी ऐसी आपदाएँ आगे आकर खड़ी हो जाती है कि उनसे आदमी दुखी होता है । साम्प्रत काल में कोरोना महामारी ने दुनिया में तहलका मचाया हुआ है । उससे समूची दुनिया चिन्ता से ग्रसी हुई है ।

       प्राचीन काल से बहुतसे रोगो ने मानव जाति पर हमला किया है । लेकिन हर समय मानव जाति ने उस विपदा का मुकाबला करके उस से खुद का विमोचन किया है। यदि हिम्मत के साथ विपदाओं से लढने की तैयारी हो तो उन विपदाओं से छुटकारा मिल सकता है ।

परमात्मराज महाराज 
हर्दायन, श्री दत्त देवस्थान मठ
परमात्मराज महाराज
हर्दायन, श्री दत्त देवस्थान मठ

       इ. साल 1918 से 1920 तक यानी कुल तीन सालों में ‘स्पॅनिश फ्लू‘ इस बीमारी ने कहर बरसाया था। कितने लोग मर रहे थे इसकी गणना करना भी मुश्किल काम था। कुछ अनुमानों के अनुसार उस समय चार पाँच करोड़ लोगों को स्पॅनिश फ्लू ने मौत के घाट उतारा था।

      लेकिन एक बात को समझ लेना बहुत ही जरुरी है कि उस समय बीमारी की चपेट में दुनिया के लगभग 50 करोड़ लोग आये थे। उस समय दुनिया की जितनी आबादी थी उसकी एक चौथाई आबादी उस रोग से ग्रसित हुई थी। अधुरी स्वास्थ सेवा के होते हुए भी तत्कालीन डॉक्टरों ने 90 फीसदी रोगियों को  यानी 45 करोड़ लोगों को रोग मुक्त किया था। इस सकारात्मक पक्ष पर गौर करने की अहमीयत है।

      आज के जमाने में वैद्यक शास्त्र ज्ञान में बहुत उन्नति हुई है। यद्यपि कोविड-19 इस बीमारी के लिए अभी कोई टीका या प्रतिजैविक दवाई नही है तो भी मलेरिया, फ्लू जैसी बीमारियों पर इस्तेमाल की जाने वाली औषधियों के द्वारा डॉक्टर लोग कोरोना पीडित रोगियों को स्वस्थ करने का प्रयास कर रहे हैं। दुनियाभर में बहुत से रोगी स्वस्थ भी हुए हैं। कोविड 19 इस बीमारी की संसर्ग जन्य बढौतरी को रोकने के लिए बहुत से प्रसार माध्यम भी बहुत अच्छी सेवा कर रहे हैं।

       इसलिए धीरज रखकर सभी ने कोरोना आपदा से लढने की अहमीयत है। केंद्र सरकार, राज्य सरकार, बहुत सी स्वास्थ सेवा संस्थाएँ जो सूचनाएँ देती हैं उन सूचनाओं का पालन करना जरुरी है। सभी ने संबद्ध नियमों का पालन किया तो दुनिया में विद्यमान यह महाभयावह त्रासदी दूर होगी, ऐसी उम्मीद हम सब रख सकते हैं . . .क्रमशः

परमात्मराज महाराज, हर्दायन श्री दत्त देवस्थान मठ, आडी, जि. बेलगाम (कर्नाटक)

पूर्व में प्रकाशित मराठी लेख से हिंदी में स्वयं श्री महाराज जी के शब्दों में रूपांतरित करके सिर्फ विशेष तौर से फाइटर प्रेस पर प्रसाद स्वरूप जन हित में प्रकाशित किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

https://www.amazon.com/dp/B086W65SLM